Education Haridwar Slider social Uttarakhand

धनोरी के नेशनल इण्टर कालेज मे डॉक्टर पृथ्वीसिंह के 89वे जन्म दिवस पर कॉलेज का वार्षिकोत्सव मनाया गया।  आखिर कैसे ? टैब कर जाने 

Spread the love

( ब्यूरो ,न्यूज़ 1 हिन्दुस्तान )
धनोरी ( हरिद्वार )।
धनोरी पीजी कॉलेज का वार्षिकोत्सव बड़े हर्षोल्लास के साथ मनाया गया । संस्था के संस्थापक डॉ पृथ्वी सिंह विकसित जी के 89 वें जन्मदिवस के अवसर पर वार्षिकोत्सव मनाया गया ।
कार्यक्रम का प्रारंभ श्रीदेव सुमन विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ पीपी ध्यानी, उपाध्यक्ष  अल्पसंख्यक आयोग उत्तराखंड  डॉ कल्पना सैनी,  एवं  सचिव धनोरी पीजी कॉलेज  आदेश कुमार सैनी,  निदेशक  संजीव सैनी,   प्राचार्य  डॉ अरविंद कुमार श्रीवास्तव, प्रधानाचार्य विजेंद्र कुमार, अनिता सैनी, रेनू ध्यानी ने  संयुक्त रुप से  सरस्वती प्रतिमा पर दीप प्रज्वलित कर किया।
  श्री देव सुमन विश्वविद्यालय के कुलसचिव डॉ पीपी ध्यानी ने अपने संबोधन में कहा कि डॉ पृथ्वी सिंह विकसित, पूर्व सिंचाई राज्य मंत्री,का योगदान राजनीतिक ही नहीं शैक्षिक क्षेत्र में भी रहा है । उनको क्षेत्र ही नहीं बल्कि दूर-दूर तक जाना जाता है । मेरे द्वारा जब प्रथम बार क्षेत्र में निरीक्षण किया गया तो पाया गया कि लोग डॉक्टर पृथ्वी सिंह विकसित के आदर्शों से बहुत प्रेरित है  और उसे अपने अंदर आत्मसात करना चाहते हैं ।


 उन्होंने कहा कि मैं आज इस वार्षिकोत्सव एवं डॉ पृथ्वी सिंह विकसित के जन्मोत्सव के कार्यक्रम में उपस्थित होकर अपने आपको गौरवान्वित महसूस कर रहा हूं। उन्होंने कहा की प्रत्येक व्यक्ति अगर डॉक्टर विकसित के आदर्शों को अनुसरण करें तो निश्चित रूप से है सफलता प्राप्त करेगे। उन्होंने कहा कि अगर हमें सफलता प्राप्त करनी है तो प्रथम हमें आत्मचिंतन करना होगा उसका अनुसरण करना होगा और मेहनत करनी होगी।
श्रीमद्भगवद गीता के श्लोक -कर्मण्येवाधिकारस्ते मा फलेषु कदाचन पर चलकर सफलता निश्चित रूप से प्राप्त होगी। उन्होंने अपने विचार प्रस्तुत करते हुए कहा कि संस्था डॉ पृथ्वी सिंह विकसित के नाम पर सर्वोत्तम प्रदर्शन करने वाले छात्र छात्रा को डॉक्टर पृथ्वी सिंह विकसित गोल्ड मेडल से नवाजे तथा  साथ ही संस्था में समय-समय पर सेमिनार आयोजित हो एवं संस्था किसी गांव को गोद ले एवं उसे आदर्श गांव बनाने में प्रयास करें जिससे डॉक्टर पृथ्वी सिंह विकसित का जीवन स्थाई हो सके। उन्होंने कहा कि श्रीदेव सुमन विश्वविद्यालय इस संस्था को जितना संभव हो उतना सहयोग प्रदान करेगी । यह मैं सभी को विश्वास दिलाता हूं। मेरी व्यक्तिगत इच्छा एवं शुभकामनाएं हैं कि यह संस्था विश्व स्तर पर जानी जाए।


 संस्था के सचिव आदेश कुमार ने  अपने संबोधन में संबोधित करते हुए श्री देव सुमन  विश्वविद्यालय के कुलपति पीपी ध्यानी  का धन्यवाद  एवं स्वागत किया । उन्होंने बताया कि इस संस्था की स्थापना हमारे पिता द्वारा क्षेत्र में शिक्षा के प्रचार-प्रसार हेतु की गई थी । उन्होंने पाया था कि ग्रामीण क्षेत्र के लोग शहर तक नहीं जा पाते जिस कारण वह शिक्षा से वंचित रहते हैं । उन्होंने  शिक्षा के दीप को प्रज्वलित करते हुए धनोरी में  नेशनल इंटर कॉलेज  धनोरी की स्थापना की । साथ ही  उच्च शिक्षा के लिए धनोरी पीजी कॉलेज  की स्थापना की । वर्तमान में  धनोरी पीजी कॉलेज में विभिन्न विषयों के  कोर्स  संचालित हैं । यह उन्हीं का  आशीर्वाद है  जो आज  संस्था  इस मुकाम पर पहुंची है।  आज  डॉक्टर  पृथ्वी सिंह विकसित  एग्रीकल्चर कॉलेज भी  संचालित किया जा रहा है  जिसमें  बीकॉम ऑनर्स,  बीएससी कृषि  संचालित है। कुलसचिव पीपी ध्यानी जी का स्नेह एवं आशीर्वाद रहा तो हमारा यह प्रयास रहेगा  की  जो सपना हमारे पिता डॉक्टर पृथ्वी सिंह विकसित ने देखा था , उसे हम  पूर्ण करें। साथ ही हमारा प्रयास है  कि संस्था में  जर्नलिज्म कोर्स एवं चिकित्सा कोर्स भी आरंभ हो सके जिससे  क्षेत्र की जनता अधिक से अधिक लाभान्वित हो सके ।
उपाध्यक्ष अल्पसंख्यक आयोग उत्तराखंड कल्पना सैनी ने अपने संबोधन में संबोधित करते हुए कहा की हमारे पिता स्वर्गीय डॉक्टर पृथ्वी सिंह विकसित ने इस संस्था की स्थापना क्षेत्र में शैक्षिक प्रचार-प्रसार हेतु की थी । उन्होंने अपने राजनीतिक जीवन से हटकर शिक्षा के क्षेत्र में विशेष कार्य किया । हमारा यह प्रयास रहेगा कि संस्था दिन प्रतिदिन ऊंचाइयों पर पहुंचे । संस्था में पढ़ें छात्र-छात्राएं देश एवं विदेश में भी अपना नाम रोशन कर ही रहे हैं । साथ ही संस्था का नाम भी ऊंचा उठा रहे हैं। उत्तराखंड सरकार द्वारा शिक्षा के क्षेत्र में विकास के लिए अनेक योजनाएं चलाई जा रही हैं तथा मेरा भी निरंतर प्रयास रहता है कि जो लोग शिक्षा से वंचित हैं वे यहां से प्राप्त करें तथा अपना भविष्य उज्जवल करें । मेरी यह मनोकामना है कि यह कॉलेज निरंतर विश्व स्तरीय ऊंचाइयों को प्राप्त करें। कार्यक्रम का संचालन डॉक्टर सुनीत कुमार पांडे द्वारा किया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *