Haridwar Kumbh mela 2021 Slider Uttarakhand

मौनी अमावस्या व् बसंत पंचमी स्नान के लिए 72 घंटे पहले की कोविड -मुक्त रिपोर्ट हुई आवश्यक, वार्ना होना पड़ेगा वापस। आखिर क्यों ? टैब कर जाने 

Spread the love

(ब्यूरो,न्यूज़ 1 हिन्दुस्तान )

हरिद्वार।  11 फरवरी और 16 फरवरी को होने वाले मौनी अमावस्या व् बसंत पंचमी स्नान के लिए 72 घंटे पहले की कोविड -मुक्त रिपोर्ट आवश्यक है तभी आप स्नान कर सकते है वार्ना आप स्नान से वंचित रह जायेंगे। जी हाँ ,हरिद्वार जिला प्रसाशन ने इसके लिए एसपी जारी की है।  एसओपी के मुताबिक 72 घंटे पहले की कोविड-मुक्त होने की आरटीपीसीआर जांच रिपोर्ट लानी होगी। बिना रिपोर्ट वाले श्रद्धालुओं को बॉर्डर से लौटा दिया जाएगा।    

                         डीएम ने सी रविशंकर ने बताया कि, स्नान के दौरान 6 फुट की सामाजिक दूरी, सेनेटाइजेशन, मास्क पहनना जरूरी होगा। उधर एसएसपी हरिद्वार सेंथिल अवूदई कृष्णराज एस के मुताबिक 10 फरवरी से जिले की सभी सीमाओं पर चेकिंग शुरू कर दी जाएगी। बिना नेगेटिव रिपोर्ट के किसी को नहीं आने दिया जाएगा।   

होटल व्यवसायिओ के साथ एक महत्वपूर्ण बैठक कलेक्ट्रेट सभागार में की। जिलाधिकारी ने बैठक में भारत सरकार से प्राप्त एसओपी के बिंदुओं को स्पष्ट करते हुए कहा कि कहा कि केंद्र से प्राप्त कुम्भ मेला व कुम्भ मेला अवधी में बड़े पैमाने पर जनसमुदाय एकत्र होने वाले दिवसों में सभी संस्थाओं द्वारा एसओपी का अनुपालन अनिवार्य है। कुम्भ व अन्य धार्मिक आयोजन कोरोना संक्रमण की दृष्टि से संवेदनशील हैं। सभी से कुम्भ मेले का आयोजन व्यक्ति जीवन सुरक्षा को सर्वोपरी मानते हुए कराने में  सहयोग की अपेक्षा की जाती है। एसओपी के माध्यम से सुरक्षित कुम्भ आयोजन के दिशा निर्देश दिये गये हैं सुरक्षित कुम्भ आयोजन ही जिला प्रशसन की प्राथमिकता है।
एसओपी के अनुसार सभी बड़े छोटे होटल रेस्टोरेंट आदि में थर्मल स्क्र्रेनिंग, फुट आॅपरेटर सेनेटाजर मशीन, सोशल डिस्टेंसिंग, मास्क का प्रयोग अनिवार्यतः करना और कराना होगा। होटल पहुंचने वाले श्रद्धालुआंे को 72 घंटे पहले कि कोरोना नेगेटिव रिपोर्ट तथा कुम्भ मेला रजिस्टेªशन पोर्टल पर पंजीकरण कराना होगा। यदि कोई यात्री बिना रजिस्ट्रेशन और टेस्ट रिपोर्ट के होटल में ठहरने आता है तो इसकी सूचना तत्काल जिला प्रशासन को देनी होगी।
अन्य राज्यों से आने वाले यात्रियों श्रद्धालुओं को हरिद्वार पहुंच कर सुरक्षित महौल मिले इसके लिए जिला प्रशासन के साथ-साथ होटल वेबसाइट व सीधे होटलों में बुकिंग कराते समय सुरक्षा के लिए व्यवसायियों को अपनी बुकिंग साइटों, कार्यालयों आदि में एसओपी के अनुपालन के लिए यात्रियों को अपनी ओर से जानकारी प्रसारित की करनी होगी।  


जिलाधिकारी ने जिला प्रशासन की ओर से कुम्भ मेला के दौरान बाॅर्डर से लेकर मेला क्षेत्रों में जगह जगह लगाये जाने वाले कोरोना सैम्पलिंग, बाॅर्डर चैकिंग की रणनीति से भी अवगत कराया। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य टीमें, बाॅर्डर और शहर के अंदर सैम्पलिंग और टेस्टिंग की सुविधा उपलब्ध रहेगी किन्तु होटल के प्रत्येक स्टाफ को भी बाहर से आने वाले श्रद्धालुओं के साथ सकारात्मक व्यवहार अपनाते हुए सहायता करनी होगी किस प्रकार और कैसे जरूरतमंद को प्रशासन और स्वास्थ्य सेवा का लाभ तत्काल दिलाया जाये। सभी कंट्रोल रूम व एम्बुलेंस आदि के नम्बरों की जानकारी होटल कर्मियों सहित रिसेस्पसनिस्ट व रूम ब्वाॅय तक को रखनी होगी किसी भी प्रकार की स्थिति से तत्काल जिला प्रशासन को अवगत कराना होगा। जिससे समय पर मदद की जा सके। उन्होंने अधिकारियों को भी निर्देश दिये कि कोविड कंट्रोल रूम में सभी होटल, धर्मशालाओं व अन्य प्रतिष्ठानों के केयर टेकर नम्बर व संस्था की लोकेशन सूची अनिवार्य रूप से रखी जाये।  


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *